दास्ताने-सड़क: अमेरिका व् भारत की जुबानी

दास्ताने-सड़क: अमेरिका व् भारत की जुबानी. सड़कों का विकास में महत्व उतना ही है जिस भांति शरीर के लिए रक्त का ! अमेरिका के विकास में सड़कों की भूमिका. भारत कहाँ खड़ा है उस मुकाबले में ?

पढ़िए मेरा साप्ताहिक स्तम्भ “वीर अर्जुन” समाचार पत्र में प्रति बुधवार को.

अक्टूबर 22, 2014  (बुधवार) के कॉलम के लिए क्लिक करिए: http://goo.gl/9a1WFK

 

One thought on “दास्ताने-सड़क: अमेरिका व् भारत की जुबानी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *